Searching...
Friday, October 23, 2020

असिस्टेंट प्रोफेसर शिक्षाशास्त्र का परिणाम घोषित, 100 हुए सफल

5:56:00 PM
असिस्टेंट प्रोफेसर शिक्षाशास्त्र का परिणाम घोषित, 100 हुए सफल

उच्चतर शिक्षा सेवा आयोग ने शुक्रवार को असिस्टेंट प्रोफेसर शिक्षाशास्त्र का अंतिम परिणाम घोषित कर दिया। इसके साथ ही आयोग के विज्ञापन संख्या 47 के सभी विषयों का परिणाम घोषित हो गया है। इस विज्ञापन के तहत प्रदेश के सहायता प्राप्त डिग्री कॉलेजों में रिक्त असिस्टेंट प्रोफेसर के 35 विषयों के 1150 पदों के लिए चयन प्रक्रिया जून 2016 में शुरू हुई थी। आयोग की ओर से जारी परिणाम में श्रेष्ठता के आधार पर 100 चयनित अभ्यर्थियों की सूची जारी की गई है। जिसमें पहले स्थान पर अनुक्रमांक 380466 आनन्द सिंह का नाम है। दूसरे स्थान पर अनुक्रमांक 386293 उमेश कुमार एवं तीसरे स्थान पर अनुक्रमांक 380449 अनामिका सिंह राठौर का नाम शामिल है।

34 विषयों का परिणाम पूर्व में घोषित किया जा चुका है। चयन परिणाम आयोग की वेबसाइट www.uphesc.org पर अपलोड कर दिया गया है। शिक्षा शास्त्र के 100 पदों के लिए लिखित परीक्षा में सफल 593 अभ्यर्थियों को इंटरव्यू के लिए आमंत्रित किया गया था। इनमें से 540 अभ्यर्थी इंटरव्यू में शामिल हुये। साक्षात्कार 18 फरवरी से 27 फरवरी 2020 तक चला था। उच्च न्यायालय में दायर वाद में दिये गये आदेश के अनुपालन में 21 अक्तूबर 2020 को दो अभ्यर्थियों के इंटरव्यू लिए गए थे। इसके बाद कोर्ट के आदेश पर अंतिम परिणाम घोषित किया गया है।

अर्हता पूरी नहीं होने पर चयन निरस्त

आयोग ने विज्ञापन संख्या 47 के तहत असिस्टेंट प्रोफेसर हिन्दी के 166 पदों का अंतिम परिणाम 13 जनवरी 2020 को घोषित किया था। जिसमें अन्य पिछड़ा वर्ग से दीपेश कुमार यादव को चयनित किया गया था। दीपेश का चयन इंटरव्यू के समय स्नातक द्वितीय श्रेणी में पास होने का प्रमाण पत्र देने पर औपबंधिक तौर पर किया गया था। उन्हें अभिलेख जमा करने के लिए मोहलत दी गई थी। 25 अगस्त को दीपेश कुमार यादव द्वारा उपलब्ध कराये गये अभिलेखों से पता चला कि वह स्नातक द्वितीय श्रेणी में पास नहीं है। दीपेश असिस्टेंट प्रोफेसर की न्यूनतम शैक्षिक अहर्ता पूरी नहीं करते हैं इसलिए उनका चयन निरस्त कर दिया गया है।

उधर, आयोग ने अर्थशास्त्र और राजनीति विज्ञान के चयन परिणाम को संशोधित किया है। यह संशोधन महिला महाविद्यालयों में रिक्त पदों के सापेक्ष अतिरिक्त सूची में कोई भी महिला अभ्यर्थी चयनित नहीं होने के कारण किया गया है। आयोग के उप सचिव डॉ. शिवजी मालवीय ने बताया कि संशोधित परिणाम आयोग की वेबसाइट पर अपलोड कर दिया गया है।

0 comments:

Post a Comment