Searching...
Saturday, October 31, 2020

TGT-PGT भर्ती 2020 : मध्य व पूर्वी जिलों में तैनात तदर्थ शिक्षक, शासन की ओर से शीर्ष कोर्ट में दाखिल हलफनामे में उल्लेख, 2000 से पहले के शिक्षक असमंजस में

6:58:00 PM


 
प्रयागराज : एडेड माध्यमिक कॉलेजों की प्रवक्ता व प्रशिक्षित स्नातक शिक्षक भर्ती 2020 में नियमित शिक्षक बनने की होड़ में तदर्थ शिक्षक शामिल हैं। अधिकांश शिक्षक प्रदेश के मध्य व पूरब के जिलों में ही तैनात हैं। उनमें से छह जिले ऐसे हैं जहां संख्या सबसे अधिक है। यह दावा शासन की ओर से शीर्ष कोर्ट में दाखिल हलफनामे किया है। उसमें वर्ष 2000 से 2019 तक तदर्थ शिक्षकों की कुल संख्या 2,534 ही दी गई है, जबकि संख्या इससे काफी अधिक है, क्योंकि यह संख्या उन शिक्षकों की है जिनकी पत्रवलियां कोषागार में संरक्षित की गई हैं।

माध्यमिक शिक्षा सेवा चयन बोर्ड ने टीजीटी-पीजीटी की भर्ती में सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर पहली बार तदर्थ शिक्षकों को भी लिखित परीक्षा में शामिल होने का अवसर दिया है, जिससे वे चयनित होकर नियमित शिक्षक बन सकें। लिखित परीक्षा में तदर्थ शिक्षकों के मूल्यांकन में प्रति प्रश्न कमी की गई है, जिससे शिक्षक नाराज हैं। वे समानता की मांग कर रहे हैं। साथ ही वेटेज अंक उनकी सेवा को देखते हुए देने का अनुरोध कर रहे हैं, ताकि वे आसानी से चयनित हो सकें। शासन ने कोर्ट में जितनी संख्या तदर्थ शिक्षकों की बताई है नियुक्ति पाने वाले उससे अधिक हैं।

इन जिलों में तदर्थ शिक्षक

सुलतानपुर, आंबेडकर नगर, अमेठी, अयोध्या, आजमगढ़, प्रतापगढ़, गोंडा, बस्ती, जौनपुर, वाराणसी, श्रवस्ती, बहराइच, मऊ, रायबरेली, उन्नाव, हरदोई, प्रयागराज, बलरामपुर, संतकबीर नगर व बाराबंकी। छह जिलों में कुल संख्या के आधे से अधिक तदर्थ शिक्षकों के होने का दावा किया गया है।


2000 से पहले वाले असमंजस में

शासन का दावा है कि वर्ष 2000 से पहले जिन शिक्षकों को एडेड कालेजों में तदर्थ रूप में तैनाती दी गई थी उन्हें विनियमित किया जा चुका है इसीलिए उसके बाद की संख्या दी गई है। ऐसे भी तमाम शिक्षक हैं जिन्हें नियुक्ति वर्ष 2000 से पहले मिली लेकिन विनियमित नहीं है। अब वे आवेदन करें या नहीं इसको लेकर असमंजस है।
2000 के पहले के भी तदर्थ शिक्षक अब तक विनियमित नहीं

बीएससी गणित वालों की बल्ले-बल्ले

चयन बोर्ड की टीजीटी भर्ती में विज्ञान व गणित में करीब चार हजार पद हैं। इसमें अर्हता ऐसी है कि बीएससी गणित वर्ग से करने वालों की चांदी है। वह दोनों पदों के लिए आवेदन कर सकते हैं, वहीं बायो वर्ग से बीएससी करने वाले दोनों में दावेदारी नहीं कर सकते। पहले चर्चा थी कि चयन बोर्ड विज्ञान एक व दो के तहत भर्ती निकालेगा लेकिन, वह गलत साबित हुआ।


0 comments:

Post a Comment