Searching...
Thursday, October 24, 2019

एलटी ग्रेड : जांच के नाम पर रोका चयन, जांच अधूरी

5:36:00 PM
एलटी ग्रेड : जांच के नाम पर रोका चयन, जांच अधूरी।


जांच के नाम पर चयन रोका, जांच अधूरी
October 25, 2019 


राज्य ब्यूरो, प्रयागराज : एलटी ग्रेड शिक्षक भर्ती में लंबे समय से एसटीएफ की जांच पर सवाल उठ रहे थे। अब वैसे ही सवाल उप्र लोकसेवा आयोग की कार्यशैली पर उठ रहे हैं। अभ्यर्थी पूछ रहे हैं कि यूपीपीएससी ने चार माह पहले जांच के नाम पर सत्यापन प्रक्रिया रोकी थी। वह जांच अब तक पूरी नहीं हो सकी है और न ही पेपर लीक मामले में गिरफ्तार पूर्व परीक्षा नियंत्रक को जमानत मिल पाई है, ऐसे में एकाएक चयन प्रक्रिया फिर क्यों शुरू कर दी गई है। चयन प्रक्रिया को रोकना गलत था या फिर अधूरी जांच के बीच उसे अब शुरू करना कितना जायज है? यदि आयोग की परीक्षा व चयन प्रक्रिया दुरुस्त थी तो फिर पहले उसे रोका ही क्यों था? नियुक्तियों को इतने दिन क्यों लटकाया गया?
दरअसल, पेपर लीक प्रकरण में फंसी एलटी ग्रेड शिक्षक भर्ती परीक्षा 2018 की कार्रवाई फिर शुरू हो गई है। उप्र लोकसेवा आयोग ने जिन सात विषयों का रिजल्ट घोषित किया था उसके सफल अभ्यर्थियों के शैक्षिक अभिलेखों का सत्यापन 15 अक्टूबर से करा रहा है। इसी बीच रुके रिजल्ट भी रह-रहकर जारी होने लगे हैं। आयोग की अचानक तेजी पकड़ने से हर कोई आश्चर्यचकित है, क्योंकि वाराणसी एसटीएफ अब भी पेपर लीक प्रकरण की जांच कर रही है, फिर बिना रिपोर्ट आए प्रक्रिया कैसे शुरू हो गई? अभ्यर्थियों को बिना वजह सड़क पर उतरने के लिए कई बार मजबूर होना पड़ा था।

यूपीपीएससी ने एलटी ग्रेड के 10768 पदों की परीक्षा 29 जुलाई 2018 को कराई थी। प्रदेश के 37 जिलों में 15 विषयों की परीक्षा में लाखों अभ्यर्थी शामिल हुए। परीक्षा के दिन वाराणसी में हंिदूी व सामाजिक विज्ञान का पेपर लीक हो गया। वाराणसी एसटीएफ ने इस मामले में कुछ अभ्यर्थियों को गिरफ्तार करके जांच शुरू की। जांच के बीच आयोग ने 13 मार्च 2019 से रिजल्ट जारी करना शुरू कर दिया। सात विषयों का रिजल्ट पहले जारी किया जा चुका है। अभ्यर्थी बचे विषयों का रिजल्ट घोषित करने की मांग को लेकर आयोग अध्यक्ष से मिले थे। अध्यक्ष ने हंिदूी व सामाजिक विज्ञान को छोड़कर छह विषयों का रिजल्ट घोषित करने का आश्वासन दिया था।





 व्हाट्सप के जरिये जुड़ने के लिए क्लिक करें।

0 comments:

Post a Comment