Searching...
Wednesday, October 24, 2018

माध्यमिक शिक्षा सेवा चयन बोर्ड उ0प्र0 : पलटेगा चयन बोर्ड का फैसला, टीजीटी-पीजीटी 2016 के आठ विषयों के आवेदन अब होंगे मान्य

6:28:00 PM

पलटेगा चयन बोर्ड का फैसला

राज्य ब्यूरो, प्रयागराज : माध्यमिक शिक्षा सेवा चयन बोर्ड उप्र का फैसला पलटने की तैयारी है। चयन बोर्ड ने तीन माह पूर्व वर्ष 2016 प्रवक्ता व स्नातक शिक्षक भर्ती के आठ विषयों के पद निरस्त करके लिखित परीक्षा भी टाल दी थी। इस निर्णय से 321 पदों के लिए आवेदन करने वाले 69297 अभ्यर्थी अधर में फंस गए।

कुछ को छोड़कर अधिकांश अभ्यर्थी दूसरे विषय में आवेदन नहीं कर सके हैं। इससे चयन बोर्ड और प्रदेश सरकार की भी किरकिरी हो रही है। शासन निरस्त किए गए विषयों के आवेदन को मान्य करते हुए इम्तिहान कराने का निर्देश जल्द जारी कर सकता है। चयन बोर्ड ने 12 जुलाई, 2018 को वर्ष 2016 के विज्ञापन से आठ विषयों के पद निरस्त कर दिए थे। उसके बाद से हजारों अभ्यर्थी लगातार आंदोलन-प्रदर्शन कर रहे हैं। इस मुद्दे पर शासन ने यूपी बोर्ड की सचिव से प्रस्ताव मांगा। बोर्ड सचिव ने बुधवार को शासन को प्रस्ताव सौंपा है। प्रशिक्षित स्नातक जीव विज्ञान आदि के अभ्यर्थी दूसरे किसी विषय के लिए अर्ह नहीं है। जीव विज्ञान भले ही माध्यमिक कालेजों में विषय के रूप में नहीं है लेकिन, उसके अंश पाठ्यक्रम में शामिल हैं। 2016 के जिन पदों के लिए आवेदन हुआ है उसे मान्य करते हुए परीक्षा कराई जानी चाहिए। आगे विज्ञान विषय की अर्हता बदली जा सकती है। शासन जल्द ही चयन बोर्ड को निर्देश जारी करेगा।

इन विषयों के आवेदन हुए थे निरस्त : प्रशिक्षित स्नातक जीव विज्ञान, संगीत, काष्ठ शिल्प, पुस्तक कला, टंकण, आशुलिपिक टंकण, प्रवक्ता वनस्पति विज्ञान व संगीत।

यूपी बोर्ड के प्रस्ताव का आधार : यूपी बोर्ड ही माध्यमिक शिक्षा सेवा चयन बोर्ड से चयनित होने वालों की अर्हता तय करता है। उसका कहना है कि ये विषय भले ही 1998 के शासनादेश में खत्म किए गए लेकिन, स्कूलों में जीव विज्ञान आदि का पद अब भी बरकरार है। उसी आधार पर 2016 का विज्ञापन जारी हुआ। इसे बीस वर्ष एकाएक निरस्त नहीं किया जा सकता, बल्कि जीव विज्ञान पढ़ाने का पहले इंतजाम होना चाहिए था।

दोबारा आवेदन प्रक्रिया भी खटाई में: चयन बोर्ड ने निरस्त हुए विषयों के अभ्यर्थियों से सितंबर व अक्टूबर में ऑनलाइन दूसरे विषयों में आवेदन मांगा था, उसमें बहुत कम संख्या में आवेदन हुए हैं। शासन के निर्णय से यह कवायद भी खटाई में पड़ना तय है।

321 पदों के लिए आवेदन करने वाले 69297 अभ्यर्थी अधर में

यूपी बोर्ड सचिव ने शासन को सौंपा नया प्रस्ताव, निर्णय जल्द

0 comments:

Post a Comment